उदयपुर – इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च (आईसीएआर) की रैंकिंग में देश में 21वें और राजस्थान में टॉपर रहने वाली महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एमपीयूएटी) का 24 दिसंबर को दीक्षांत समारोह होगा। लेकिन यह इतना अनूठा होगा कि देश में अब तक किसी भी यूनिवर्सिटी में नहीं हुआ।

इस वर्चुअल समारोह के लिए ऐसा प्रजेंटेशन तैयार किया गया है, जिसमें गोल्ड मेडल पाने वाले छात्र-छात्राएं कुलपति व अन्य मेहमानों के हाथों पदक पहनते दिखाई देंगे। वे नाम पुकारे जाने पर कुलपति के सामने प्रकट होंगे और मेडल लेते ही गायब हो जाएंगे।

अब तक आईआईटी मद्रास, आईआईटी बॉम्बे व जोधपुर में भी वर्चुअल आयोजन हुए हैं, लेकिन उनमें छात्रों की असल इमेज की जगह एनिमेटेड इमेज थी। इस दीक्षांत समारोह में छात्र व पदक देने वाले मेहमानों की इमेज एनिमेटेड होने के बजाय असली होगी। कुलपति प्रो. एनएस राठौड़ ने बताया कि समारोह में इस बार 32 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक और 712 छात्रों को उपाधियां दी जाएंगी। गोल्ड मेडलिस्ट छात्र के अलावा अन्य डिग्री व मेडल पाने वालों छात्रों के फोटो, नाम आदि स्क्रीन पर डिस्प्ले किए जाएंगे।

अभी एनिमेटेड इमेज से होते रहे हैं दीक्षांत समारोह, पहली बार मिक्स्ड रियलिटी टेक्नोलॉजी से वीडियो जोड़े

सीटीएई के डीन डॉ. अजय शर्मा ने बताया कि इस वर्चुअल दीक्षांत समारोह के लिए मिक्स्ड रियलिटी एनिमेटेड टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया है। मकसद था कि एनिमेटेड के बावजूद बनावटी जैसा कुछ नहीं दिखे। स्क्रीन पर प्ले होने के बावजूद छात्र भी असल होंगे और उन्हें पदक देने वाले मेहमान भी। इसे तैयार करने के लिए समारोह का मंच तैयार किया गया।

कुलपति और अन्य मेहमानों के जरिये ऐसा वीडियो बनाया गया, जैसे वे किसी के गले में मेडल डाल रहे हों। इसके बाद मेडल पाने वाले छात्रों के अलग-अलग वीडियो ऐसे बनाए गए, जैसे वे मेडल पहन रहे हों। फिर उनके नामों की घोषणा, मेडल देने और पहनने की मिक्सिंग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.